एजेंसी। कार्तिक को सबसे अच्छा महीना माना जाता है। यह मास पापों का नाश करता है और सभी समस्याओं को दूर करता है। कार्तिक का महीना धन, सुख, समृद्धि, शांति और स्वास्थ्य लेकर आता है। ऐसा माना जाता है कि इसी महीने भगवान शिव के पुत्र कार्तिकेय ने राक्षस तारकासुर का वध किया था। To fulfill the plan you have planned, do not make these mistakes even by mistake for the whole month of Kartik

इसलिए इस महीने का नाम कार्तिकेय रखा गया है। कार्तिक का महीना भगवान हरि विष्णु और भगवान शिव को विशेष रूप से प्रिय है। इस माह गायत्री मंत्र का जाप करने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है। कार्तिक में पवित्र नदियों में स्नान का विशेष महत्व है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस महीने में भगवान हरि जल में ही निवास करते हैं। इस माह में दीपक का दान करें। ऐसा माना जाता है कि दीपक दान करने से सभी प्रकार की समस्याओं का समाधान हो सकता है। ऐसा करने से कर्ज से मुक्ति मिल सकती है। कार्तिक में फर्श पर सोने से मन में सात्विकता का भाव आता है।

जमीन पर सोने से सभी रोगों और विकारों से छुटकारा मिलता है। इस माह तुलसी पूजन भी करना चाहिए। कार्तिक मास में उड़द, मूंग, दाल, चना, मटर, तोरी आदि नहीं खाना चाहिए।

कार्तिक मास में ब्रह्मचर्य का पालन करना अत्यंत आवश्यक है। इस महीने कम बात करें, किसी की आलोचना या बहस न करें, मन को शांत रखें, ज्यादा न सोएं या बहुत कम सोएं।

इस माह दान करने से अनेक लाभ होते हैं। कार्तिक मास में तुलसी और सूर्यदेव को जल चढ़ाना चाहिए। रामायण और भगवत गीता का अध्ययन भी अच्छा है।

कार्तिक मास में तिल का दान, नदी स्नान, संतों की पूजा करने से कई समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। कार्तिक मास में तुलसी के पौधे का दान किया जाता है। इस माह पशुओं को हरी घास खिलाएं।

Related News